नारियल के फायदे हजार पर ये लोग ना करें सेवन

वैसे तो नारियल में गुणों की भरमार है लेकिन इसका उपयोग हर व्यक्ति नहीं कर सकता है। कुछ लोगों को ये फायदा देने की बजाय नकारात्मक प्रभाव भी दे सकता है। आइए जानते हैं नारियल को किस रूप में औषधी के रूप में उपयोग किया जाए और इससे क्या फायदे होंगे। साथ ही जानते हैं कि कौन लोग इसका उपयोग करने से बचें:

हड्डियों और मांसपेशियों को करता है मजबूत
डाइट: सूखी गिरी में नैचुरल ऑयल होने के कारण इसमें वसा की मात्रा बढ़ जाती है इसलिए इसे सीमित मात्रा में लेकर वजन को नियंत्रित कर सकते हैं। रोजाना इसका एक छोटा टुकड़ा खाने के अलावा बारीक काटकर खीर या मिठाई में मिलाकर भी खा सकते हैं।
पौष्टिकता: जरूरी विटामिन और मिनरल के अलावा यह मैग्नीज़ जैसे तत्त्वों से भरपूर है।
फायदे: सूखने के दौरान इसमें नैचुरल ऑयल बनने लगता है जो हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूत करता है। मैंग्नीज़ तत्त्व त्वचा को चमकदार व ब्लड शुगर लेवल को मेंटेन रखता है।
न खाएं: अधिक वजन वाले व डायबिटीज के रोगी डॉक्टरी सलाह के बाद ही खाएं।
स्टोरेज: एयरटाइट कंटेनर में इसे लंबे समय तक रखा जा सकता है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है
डाइट : नारियल दूध हफ्ते में 3-4 बार ले सकते हैं। कच्चे नारियल को कूटकर निकाला गया ताजा दूध शरीर के लिए पौष्टिक होता है।
पौष्टिकता : 100 ग्रा. नारियल के दूध से 154 कैलोरी ऊर्जा मिलती है। इसमें आयरन, फॉस्फोरस और मैग्नीशियम तत्त्व भी होते हैं। अधपके नारियल में से ही दूध निकल सकता है।
फायदे : खासकर बच्चों के लिए यह संपूर्ण डाइट है। यह रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है।
न पीएं: अधिक वजन व हृदय से जुड़ी समस्या वाले कम पीएं।
स्टोरेज : इसे तुरंत इस्तेमाल में लेना बेहतर है।

जोड़ों व मांसपेशियों को देता है मजबूती
डाइट : एक दिन में नारियल तेल की 10-40 एमएल की मात्रा ले सकते हैं।
पौष्टिकता : 100 ग्रा. नारियल तेल से 862 कैलोरी ऊर्जा मिलती है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स ज्यादा व बुरा कोलेस्ट्रॉल कम होता है।
फायदे : इस तेल की मालिश जोड़ों व मांसपेशियों को मजबूती देती है। त्वचा जलने पर इस तेल के प्रयोग से घाव जल्दी भरता है व निशान नहीं रहता। यह दिमाग को ताकत देकर ठंडा रखता है।
न खाएं : अधिक वजन और हृदय रोगी प्रयोग कम करें।
स्टोरेज : यह स्वयं प्रिजर्वेटिव के रूप में प्रयोग होता है। एक साल के अंतराल में इसे बदल लें।

बच्चों के लिए फायदेमंद
डाइट : पानी सहित कटा आधा कच्चा नारियल/कच्ची गिरी खा सकते हैं। भोजन में इससे तैयार चटनी या सब्जी को भी शामिल कर सकते हैं।

पौष्टिकता: इसकी 100 ग्रा. मात्रा से 354 कैलोरी ऊर्जा, फाइबर और प्रोटीन मिलता है।
फायदे : बच्चों में यह भूख शांत करने के साथ मसूढ़े मजबूत करता है। पाचनतंत्र को सही करता है।
स्टोरेज : ज्यादा देर खुले में रहने से इसमें फंगस या बैक्टीरिया पनप जाते हैं इसलिए ताजा ही खाएं।

गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद
डाइट : रोज एक नारियल का पानी।
पौष्टिकता : 100 ग्रा. नारियल पानी से 19 कैलोरी ऊर्जा, कैल्शियम, मिनरल आदि तत्त्व मिलते हैं।
फायदे : गर्भवती महिलाओं, छोटे बच्चों की हड्डियों का विकास या जिनके जोड़ों में दर्द की समस्या हो उनके लिए यह सबसे अच्छा है। ताकत बढ़ाने, प्यास या शरीर में जलन या यूरिन की समस्या को दूर करता है।
न पीएं: जिन्हें बार-बार पथरी बनती हो यानी जिनके शरीर में कैल्शियम की मात्रा ज्यादा हो वे इसे कम ही लें।
स्टोरेज : तुरंत पी लेना चाहिए। पैक्ड बोतल में मिलने वाले नारियल पानी को पैकिंग से 48 घंटे के अंदर पीना जरूरी है।

एक्सपर्ट राय: इसमें कैल्शियम व पोटेशियम अधिक मात्रा में होते हैं जिसे किडनी के मरीज आसानी से पचा नहीं पाते। इसलिए वे इसका अधिक प्रयोग न करें।