मूली की स्मेल पर मत जाइए, इसमें हैं ये चमत्कारिक गुण

मूली खाने के नाम पर ज्यादातर लोग इसकी स्मेल को लेकर बात टाल देते हैं। हालांकि वे इस बात को नहीं जानते हैं कि इसके फायदे इसकी मामूली सी स्मेल से कहीं ज्यादा हैं। मूली को कई बीमारियों के लिए एक औषधि के रूप में उपयोग किया जा सकता है। सर्दियों के मौसम में यह आसानी से उपलब्ध होती है। आइए जानते हैं इसके फायदों के बारे में:

कफ दूर करने में सहायक

मूली सर्दी में पैदा की जाती है और इस दौरान सर्दी—जुकाम का भी ज्यादा दौर रहता है। अगर आप रोजाना मूली खाते हैं तो इससे सर्दी, खांसी भी दूर होती है। इसकी वहज इसमें मौजूद एंटी—कांजेस्टिव गुण है।

कैंसर से निपटने में भी सहायक

मूली में अन्य गुणोें के अलावा विटामिन C, एंथोकाइनिन और फॉलिक एसिड भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। इन गुणों की वजह से मूली कैंसर से लड़ने में मदद करती है। विशेषकर किडनी, पेट, आंत और मुंह के कैंसर में मूली कारगर साबित होती है।

दंत रोगों में भी आती है काम

मूली को सलाद के रूप में या सीधे खाने से दांत—मसूड़ों की बीमारियों में राहत मिलती है वहीं अगर इसका रस निकाल कर कुल्ला किया जाए या मला जाए तो भी दांतों—मसूड़ों की बीमारियां नहीं पनपती हैं। पायरिया जैसे दंत रोगों में भी इससे फायदा मिलता है।

शूगर लेवल रहता है कंट्रोल

मूली की एक और खास बात है जिसके चलते इसके उपयोग की सलाह दी जाती है। डायबिटीज रोगियों के लिए यह बेहद काम का उपाय है। मूली इंसुलिन को नियंत्रित रखती है। साथ ही शूगर लेवल को भी बैलेंस करती है। इससे डायबिटीज पर नियंत्रण रहता है।

कील, मुहांसों की दुश्मन है मूली

बुजुर्गों को आज भी आप यह कहते सुन सकते हैं कि मूली खाने से कील मुंहासे, घमोरियां और अन्य त्वचा संबंधी विकार नहीं होते हैं। इसमें मौजूद बी कॉम्पलेक्स, जिंक, विटामिन सी और फॉस्फोरस त्वचा को फ्रेश बनाए रखता है।