हिचकी करे परेशान तो तीन कालीमिर्च व मिश्री चबाएं, जानें इसके फायदे

यूं तो हिचकी आना सामान्य बात है, लेकिन लगातार हिचकी आना एक तरह की बीमारी है। हिचकी को रोकना मुश्किल होता है। कई बार गले में कुछ फंसने, मौसम में बदलाव या तेज मिर्च मसाला खाने से हिचकियां आने लगती हैं। इससे बचने के लिए कुछ घरेलू नुस्खे अपनाए जा सकते हैं। फिर भी हिचकी न रुके तो डॉक्टरी राय लें।

इसलिए होती परेशानी

सीने के हिस्से पर डायफ्रॉम की मांसपेशियों के अचानक सिकुडऩे की वजह से हिचकी आने लगती है। मुंह में जब वायु ऊपर की ओर बढ़ती है तो हिक-हिक की आवाज आती है। इस तरह वायु रुक-रुक कर बाहर निकलती है। ऐसी स्थिति वायु बढ़ाने वाले पदार्थों को खाने से उत्पन्न होती है। कई बार मिर्च मसाले वाली चीजें खाने या गले में कोई चीज अटक जाने से पेट से ऊपर की ओर वायु उठने से होती है जिससे हिचकी शुरू हो जाती है। कुछ गर्म खाने के बाद कुछ ठंडा खाने, धूम्रपान करने या ज्यादा तनाव लेने से भी हिचकी आती है।

कुछ घरेलू उपाय

शहद की मिठास शरीर की नसों को नियंत्रित रखती हैं। ऐसे में सिर्फ शहद चाटने या एक चम्मच नींबू के रस में शहद मिलाकर चाटने से भी आराम मिलता है। नींबू का एक चौथाई टुकड़ा भी मुंह में रख सकते हैं। चीनी भी हिचकी रोकने में सहायक है। कालीमिर्च खाना भी लाभकारी है। तीन कालीमिर्च व मिश्री मिलाकर चबाएं या रस चूसते रहें। जरूरत लगे तो एक या दो घूंट पानी पी सकते हैं। हिचकी से राहत मिलती है।

ये अपनाएं

कुछ सेकंड के लिए सांस रोकें
अपना ध्यान दूसरी ओर लगाएं
खाना धीरे खाएं, पानी धीरे-धीरे करके पीएं

काली मिर्च के अन्य फायदे

एक चमच घी और 8 काली मिर्च और शकर को मिला कर रोजाना चाटने से याद शक्ति में सुधार होता है तथा दिमाग की कमजोरी दूर होती है । 15 काली मिर्चे , 2 बादाम की गिरीयां , 5 मुनकें , 2 छोटी इलाइची , एक गुलाब का फूल , आधा चमच खसखस को रात को एक वर्तन में डाल कर भिगो दे और सुबह को रगड़ कर 250 ग्राम दूध में मिला कर हर रोज लगातार कुछ महीने पिने से दिमाग में तरावट आएगी और दिमाग की थकावट दूर हो जाएगी।

20 ग्रम काली मिर्च , 50 ग्राम बादाम 20 ग्राम तुलसी के पत्ते को एक साथ पीस कर चूरन बना ले और इस चूरन का एक चमच दो चमच शहद में मिला कर चाटने से दिमाग की ताकत में सुधार होता है। गले के बैठने में काली मिर्च का सेवन लाभकारी होता है और इस से मुह के छाले भी ठीक हो जाते है। दस काली मिर्चे चबा कर गरम पानी पी लीजये । एस प्रकिर्या को रोजना तीन बार करने से सर्दी के कारण सव्रभंग ठीक हो जाती है। चुटकी भर पीसी हुई काली मिर्च आधा चमच घी के साथ मिला कर खाना खाने के बाद चाटने से खांसी भी ठीक हो जाती है ।