कहानियां

ग्लास का वजन Short Story For Adults Moral Value

हमारी इस आधुनिक जीवनशैली की वजह से चिंता और तनाव हर समय हमारे साथ रहते हैं। अपनी लाइफ को बैलेंस करने के लिए यह जरूरी है कि हम स्ट्रेस मैनेजमेंट सीखें। आज हम आपके लिए एक ऐसे ही शानदार कहानी लाए हैं जिससे आपको स्ट्रेस मैनेजमेंट के बारे में सीखने में बहुत आसानी होगी। इसे मैं कहूंगा Short Story For Adults Moral Value. कहानी के अंत में आपको एक Moral मिलेगा जिसे आप अगर अपनी जिंदगी में उतारते हैं तो आपको स्ट्रेस मैनेजमेंट करने में काफी हेल्प मिलेगी।

Short Story For Adults Moral Value

Short Story For Adults Moral Value

एक बार एक मनोविज्ञान की प्रोफेसर एक मंच पर चारों ओर घूमते हुए छात्रों से भरे सभागार में तनाव प्रबंधन सिद्धांतों को पढ़ा रही थीं। तभी उन्होंने एक पानी का गिलास उठाया। सभी को उम्मीद थी कि उनसे वही “ग्लास आधा खाली या आधा भरा” वाला प्रश्न पूछा जाएगा। इसके बजाय,प्रोफेसर ने मुस्कुराहट के साथ पूछा, “यह पानी का गिलास कितना भारी है?”

छात्रों ने आठ औंस से लेकर कुछ पाउंड तक जवाब दिए।

उसने कहा, “मेरे ख्याल से, इस गिलास के वजन से कोई फर्क नहीं पड़ता। यह सब इस बात पर निर्भर करता है कि मैं इसे कब तक पकड़ कर रखती हूं। अगर मैं इसे एक या दो मिनट के लिए पकडती हूँ, तो यह काफी हल्का है। अगर मैं इसे एक घंटे के लिए पकड़कर रखती हूं, तो इसके वज़न से मेरे हाथ में थोड़ा दर्द हो सकता है। यदि मैं इसे एक दिन के लिए पकड़ती हूँ, तो मेरा हाथ पूरी तरह से सुन्न और लकवा आ सकता है, जिससे मुझे इस गिलास को छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ सकता है। प्रत्येक मामले में कांच के वजन में बदलाव नहीं होता है, लेकिन मैं इसे जितनी देर तक पकड़ती, यह मुझे उतना ही भारी लगता है। ”

पूरी कक्षा ने इस बात के समर्थन में सिर हिलाया. प्रोफेसर ने बोलना जारी रखा. उन्होंने कहा, “आपके जीवन में तनाव और चिंताएं इस पानी के गिलास की तरह ही हैं। थोड़ी देर के लिए उनके बारे में सोचो और कुछ भी नहीं होता है। उनके बारे में थोड़ा ज्यादा सोचो और आपको थोड़ा दर्द होना शुरू हो जाता हैं। पूरे दिन उनके बारे में सोचो, और आप पूरी तरह से सुन्न और लकवाग्रस्त महसूस करेंगे।

Moral: आपके तनाव और चिंताओं को पकड़कर नहीं रखना चाहिए। दिन के दौरान जो कुछ भी होता है, शाम को जितना जल्दी और जितना हो सके उतना मन का बोझ कम कर दें। उन्हें पूरी रात और अगले दिन के लिए बचाकर न रखें। यदि आप कल के तनाव का वजन आज महसूस करते है, तो यही सही समय है जब आपको गिलास नीचे रख देना चाहियें।

Imp –  अगर आपको Short Story For Adults Moral Value पसंद आई हो तो इसे अपनी फेसबुक प्रोफाइल पर जरुर शेयर करें और हाँ हमारे फेन पेज को टैग करना न भूलें और Short Story For Adults Moral Value जैसी और कहनियाँ पढने के लिए ब्लॉग पर कहानियाँ वाला भाग जरुर विजिट करें।

Related Terms: Short Story For Adults Moral Value in Hindi

Leave a Comment